ब्रिज रानी कृपा कीजे, रज रानी कृपा कीजे
ब्रिज माही किसी कोने में, मोहे धूलि बना दिजे

संत चरण रज, युगल चरण रज
रज में मिल रज, लिपटु मैं रज
चरणों मे मिला लीजे, ब्रिज वास् दिला दिजे
ब्रिज के किसी कोने में मोहे धूल बना लीजे

रज कण कण में वास युगल का
आनंद भरा एहसास युगल का
कुंज यमुना पहुँचा दिजे, आननद दिला दिजे
ब्रिज के किसी कोने में मोहे धूल बना लीजे

गोपाली पागल की है लाली, जो लाली बरसाने वाली
रस केली चखा दिजे, बरसाना बसा लीजे
मोहे पास बिठा लीजे
ब्रिज के किसी कोने में मोहे धूल बना लीजे

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह