गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय -2
गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय।

दर्शन परसन और परिक्रमा-2 ,
अद्भुत गोवर्धन की गरिमा -2
महिमा अवर्णीय है-ना कोई चिंता ना कोई भय-2
गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय।

गोवर्धन है देव हमारो,ब्रज रक्षक है पालनहारो। -2
ब्रजदेव हरे सब भय-2,ना कोई चिंता ना कोई भय-2
गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय।

नंदनंदन गिरिराज उठायो ,ब्रज को छप्पन भोग लगायो -2
इंद्रदेव शरण पड़यो है-2,ना कोई चिंता ना कोई भय-2
गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय।

‘‘मधुप’’ गोवर्धन के गुण गाओ ,फल चारों गिरिराज से पाओ-2
ये बात सर्वसिद्ध है ,ना कोई चिंता ना कोई भय-2
गिरिराज धरण की जय ,ना कोई चिंता ना कोई भय।

ना कोई चिंता ना कोई भय-4 ।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह