जगत सब छोड़ दिया सांवरे तेरे पीछे,
ओ रसिया तेरे पीछे,
जगत सब छोड़ दिया सांवरे तेरे पीछे……

तेरे पीछे कान्हा मैं तो वृन्दावन आई रे,
वृन्दावन आई रे,
ऐसी सुरीली तूने बांसुरी बजाई रे,
बांसुरी बजाई रे,
ये जीवन मोड़ लिया सांवरे तेरे पीछे,
ओ रसिया तेरे पीछे,
जगत सब छोड़ दिया सांवरे तेरे पीछे…..

हुई मैं दीवानी मेने छोड़ा ये जमाना रे,
छोड़ा ये जमाना रे,
लागी लगन है अब तो श्याम को ही पाना रे,
श्याम को ही पाना रे,
ये रिश्ता जोड़ लिया सांवरे तेरे पीछे,
ओ रसिया तेरे पीछे,
जगत सब छोड़ दिया सांवरे तेरे पीछे……

कैसे मैं आऊं तेरी टेढ़ी है डगरिया रे,
टेढ़ी है डगरिया रे,
तुमको रिझाऊं कैसे बांके सावंरिया रे,
बांके सावंरिया रे,
ये घूँघट खोल दिया सांवरे तेरे पीछे,
ओ रसिया तेरे पीछे,
जगत सब छोड़ दिया सांवरे तेरे पीछे……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह