कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

किसी को तो कान्हा तुमने दो दो नैन दिए,
किसी को तो कान्हा तुमने जय हो,
किसी को तो कान्हा तुमने दर्शन को रुलाया है,
कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

किसी को तो कान्हा तुम ने दो-दो लाल दिए,
किसी को तो कान्हा तुमने जय हो,
किसी को तो कान्हा तुमने क्यों बांध बनाया है,
कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

किसी को तो कान्हा तुमने कोठी महल दिए,
किसी को तो कान्हा तुमने जय हो,
किसी को तो कान्हा तुमने सड़कों पर सुलाया है,
कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

किसी को तो कान्हा तुमने धनवान बनाया है,
किसी को तो कान्हा तुमने जय हो,
किसी को तो कान्हा तुमने क्यों भिखारी बनाया है,
कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

अपने अपने कर्मों का फल सबको ही पाना है,
जैसे जैसे कर्म किए जय हो,
जैसे जैसे कर्म किए वैसा ही निभाना है,
कैसे कैसे खेल तेरे और कैसी तेरी माया है….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह