श्री हरिदास

तरज़:-अल्ला ये अदा, कैसी है ईंधन हसींनों में

लाडली श्यामा जू, रखलो मुझे बरसानें में,
मन लगता ना, मेरा ज़मानें में,
लाडली….‌..

ये जो रिश्ते हैं, सब फन्दें है,
मोह माया में, सब अन्धें है,
क्या पाप लगेगा, भुल जानें में,
लाडली….‌..

तेरी किरपा से, बन्धंन छुटा है,
तेरी करूणा से, भ्रंम टुटा है,
आनंन्द मिलेगा, बरसानें में,
लाडली….

पागल ने ये, राज़ जाना है,
धसका नें ये, पहचाना है,
मोहन भी मिलेगा, बरसानें में,
लाडली….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह