मन रे,, कृष्ण नाम कह लीजे, बांके बिहारी कह लीजे….

गुरु के वचन सत्य कर मानहूं,
साधु समागम कीजे,
पढ़िये सुनिये भगति भगवद,
और कहां तप कीजे,
मन रे,, कृष्ण नाम कह लीजे…..

कानन दूसरो नाम सुने नहीं, एक ही रंग रंग्यो यह डोरो,
धोख्यो से दूसरो नाम कड़े रसना, रसिक काढ़ी हलाहल बोरो,
ठाकुर चित्त की वृत्ति यही, अब कैसेहुं टेक तजे नहीं भोरो,
बावरी वै अंखियां जरी जाहि, जो सावरो छाड़ी निहारत गोरों॥

कृष्ण नाम रस भयो जात है,
तृषावंत है पीजे,
सूरदास हरि शरण ताकिये,
विरथा काहे जीजे,
मन रे,, कृष्ण नाम कह लीजे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह