श्यामा मेरे प्यारे, मेरे मोहन मेरे प्यारे …….

कृष्णा तेरी ये प्रीत में,
मोहन तेरी ये प्रीत में,
जोगन सी बन गई हूँ मैं,
छोड़ के मोह माया तेरी,
चौखट पे आ गई हूँ मैं,
कृष्णा तेरी ये प्रीत में…..

तेरा नाम जपने से मुझको जन्नत का वो नूर मिले,
नूर की लौ में खुशिया बरसे मन की मुरादें ज़रूर मिले,
तेरे दर से वो ही लौ लेने को आ गई हूँ मैं,
कृष्णा तेरी ये प्रीत में………..

मेरे रोम रोम में तू है बसा, तेरे बिन जीवन है अधूरा,
तेरी रेहमत का साया हैं जहाँ, रोशन हो वहां अँधेरा,
हर जनम तेरा साथ श्यामा पाने को आ गई हूँ मैं,
कृष्णा तेरी ये प्रीत में………….

तेरी अद्भुत लीला है सांवरे शक्ति का अवतार है,
राजा गोहर का जीवन अर्पण चरणों में बारम्बार है,
तुझसे यही वर मांगने फिर से आ गई हूँ मैं,
कृष्णा तेरी ये प्रीत में……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह