फ़िल्मी तर्ज – छोड़ दिया जाए या मार दिया जाए

वृन्दावन में जाये या कुंज गलिन में जाये,
बोल मेरे श्याम तेरा कैसे दर्शन पाए…..

रूप सारे तेरे दिल को भाये मेरे,
बिन तेरे दिल को कुछ भी भाए ना,
वृन्दावन में जाये या कुंज गलिन में जाये,
बोल मेरे श्याम तेरा कैसे दर्शन पाए…..

वृन्दावन में जाये या कुंज गलिन में जाये,
बोल मेरे श्याम तेरा कैसे दर्शन पाए…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह