सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ, मैनु स्वर्ग नजारा लगदा ऐ,
अज वेख वेख मन्दिरां नु, दिल मेरा दातीऐ भरदा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी……

तेरी पावन गुफा दे दर्शन कर, मन चरणां दे विच लाया ऐ,
अज तेरे द्वारे तों, खुशीया दी झोलीया भर लाया ऐ,
ओदी किस्मत खोटी रह जांदी, जो द्वारे तेरे दी पौड़ी चढ़दा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ….

मैनु नाम दे विच रगंया ऐ, तेरे प्यार दी चढ़ गई मस्ती माँ,
मै नौकर हो गया इस दर दा, मेरी मिट गई सारी हस्ती माँ,
बङे अजब नजारे माँ तेरे देख, मेरा दिल माँ जाण दा करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ…….

पा माँ मुरादा भक्ता नु, तेरे पल पल दर्शन पाऊंण दीयां,
सदा रह के तेरे चरणां विच, तेरी जय जय कार बुलाण दी,
जिने दीद ना पाई दाती दी, ओ भवसागर तो तरदा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह