मांगने की आदत मेरी जाती नहीं,
माँ अपने दर से किसी को लौटाती नहीं,
मांगने की आदत मेरी जाती नहीं…..

रंक क्या राजा भी आते झोली पसारे,
भर भर देती है माँ जो भी दर पे पधारे,
चरणों में जो आए उनको सताती नहीं,
माँ अपने दर से किसी को लौटाती नहीं,
मांगने की आदत मेरी जाती नहीं……

सब के मन की माँ चाह जानती है,
दुखों को दूर करने की राह जानती है,
मन चाहा देती है कभी जताती नहीं,
माँ अपने दर से किसी को लौटाती नहीं,
मांगने की आदत मेरी जाती नहीं…..

कैसी झिझक शर्म क्यूं मैं हया करूं,
माँ से ना मांगू तो किससे मैं बयां करूं,
मांगने में उससे लाज़ मुझे आती नहीं,
माँ अपने दर से किसी को लौटाती नहीं,
मांगने की आदत राजीव की जाती नहीं,
माँ अपने दर से किसी को लौटाती नहीं……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह