( बागा बोली कोयली, वन में बोल्यो मोर,
नवरात्रि को आयो त्यौहार, खुशी बरसे चहुं ओर,
सरस बन में, सरस बन में,
आज कोयल बोली रे सरस बन में।। )

झमराल्या रो बेटो मैया चतुर सुजान रे,
चतुर सुजान ओ मैया चतुर सुजान रे,
नंदन बन में नंदन बन में,
आज कोयल बोली रे सरस बन में….

किरसान्या रो बेटो मैया चतुर सुजान रे,
चतुर सुजान ओ मैया चतुर सुजान रे,
हमारे मन में तुम्हारे मन में,
आज कोयल बोली रे सभी के मन में…..

कौन ले आए मैया तोहरी चुनरिया,
भगत ले आए मैया तोहरी चुनरिया,
मैया ओढ़ रही रे मैया पहन रही रे,
आज कोयल बोली रे सरस बन में…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह