पर्वतों का घेरा है
जैसे चांद तारों में ऐसे मेरी मैया जी का डेरा है,
मेरी मैया जी का डेरा है, मेरी मैया जी का डेरा है,
पर्वतों का घेरा है……

छाई हरियाली है….-2
मैया जी के मंदिर की कैसी शान निराली है,
कैसी शान निराली है, कैसी शान निराली है,
पर्वतों का घेरा है…..

लंम्बी लम्बी कतारे है….-2
मैया जी के दर्शन को सारे हाथ पसारे है,
सारे हाथ पसारे है, सारे हाथ पसारे है,
पर्वतों का घेरा है…..

माँ के चरणों मे रहते है….-2
सारे तारे गिन गिन के जय माता दी कहते है,
जय माता दी कहते है, जय माता दी कहते है,
पर्वतों का घेरा है…..

ऐसी मेरी मईया है….-2
हर लेती दुख लखेया करे सुख की छईयाँ है,
करे सुख की छईयाँ है, करे सुख की छईयाँ है,
पर्वतों का घेरा है…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह