ग्यारस माता मेरे घर आइए,
फिर तन्ने मैं अपना लूंगी…..

मेरी ड्योढ़ी पर पैर धरेगी,
फिर तन्ने शीश झुका दूंगी,
मेरे घर में चार कोने हैं,
चारों पर आसन लगा दूंगी,
मेरे घर में सासुल ससुरे,
तेरी उनसे सेवा करा दूंगी,
ग्यारस माता मेरे घर आइए,
फिर तन्ने मैं अपना लूंगी…..

मेरी ड्योढ़ी पर पैर धरेगी,
चरणों में शीश झुका दूंगी,
मेरे घर में चार कोने हैं,
चारों में आसन लगा दूंगी,
मेरे घर में जेठ जेठानी,
तेरी उनसे सेवा करा दूंगी,
ग्यारस माता मेरे घर आइए,
फिर तन्ने मैं अपना लूंगी…..

मेरी ड्योढ़ी पर पैर धरेगी,
चरणों में शीश झुका दूंगी,
मेरे घर में चार कोने हैं,
चारों में आसन लगा दूंगी,
मेरे घर में राजा रानी,
तेरी उनसे सेवा करा दूंगी,
ग्यारस माता मेरे घर आइए,
फिर तन्ने मैं अपना लूंगी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह