जगत में उनकी मिटी है चिन्ता,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
उन्ही के जीवन हरे भरे है,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
जगत में उनकी मिटी है चिन्ता….

ना तुम को पाया किसी ने बल से,
ना तुम को पाया किसी ने छल से,
पाया है तुमको क्षमा के जल से,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
जगत में उनकी मिटी है चिन्ता…….

ना तुम को पाया गरीब बनकर,
ना तुम को पाया अमीर बनकर,
पाया है तुमको शहीद बनकर,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
जगत में उनकी मिटी है चिन्ता……

ना तुमको पाया किसी ने तन से,
ना तुमको पाया किसी ने धन से,
पाया है तुमको इक सच्चे मन से,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
जगत में उनकी मिटी है चिन्ता……

ना तुमको पाया किसी ने गा कर,
ना तुमको पाया भेंट चढ़ा कर,
पाया है तुमको दिल से रिझाकर,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
जगत में उनकी मिटी है चिन्ता……

जगत में उनकी मिटी है चिन्ता,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
उन्ही के जीवन हरे भरे है,
जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
माँ जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
माँ जो तेरे चरणो मे आ गिरे है,
माँ जो तेरे चरणो मे आ गिरे है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह