दया करो मां दया करो, बाला सुन्दरी दया करो,
नाव पड़ी मझधार है मेरी अब तो भव से पार करो….

विपदा ने मुझे घेर लिया है सब ने ही मुंह फेर लिया है,
छाया है घनघोर अंधेरा मैने तुम को टेर लिया है,
कहलाती हो मेहरा वाली अब तो मुझ पर मेहर करो,
दया करो मां दया करो बाला सुन्दरी दया करो….

सेवक हूं नादान में तेरी बगिया का ही फूल हू मैया,
जो भी हूं में जैसा भी हूं तेरे चरण की धूल हूं मैया,
देखो ना अब गुण मेरा भवानी अब तो सर पे हाथ धरो,
दया करो मां दया करो बाला सुन्दरी दया करो…..

नाम तुम्हारा है महामाया माया अजब निराली है,
त्रिलोकपुर में धाम है तेरा सब की तू रखवाली है,
सिंगला भी है बालक तेरा यूं ना चरण से दूर करो,
दया करो मां दया करो बाला सुन्दरी दया करो…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह