मेरे जीवन की बंध गई डोर मां अंबे तेरे चरणन में,
रानी तेरे चरनन में, महारानी तेरे चरनन में,
मेरे जीवन की बंध गई डोर मां अंबे तेरे चरणन में….

तू एक इशारा कर दे मैं दौड़े आऊं तेरे दर पे,
मैं तो नाचू बनकर मोर मां अंबे तेरे चरणों में,
मेरे जीवन की बंध गई डोर मां अंबे तेरे चरणन में…..

मेरा पल में भाग्य बदल दे इशारा तेरी करुणा का,
मेरे जीवन की मिट जाए दौड़ मां अंबे तेरे चरणों में,
मेरे जीवन की बंध गई डोर मां अंबे तेरे चरणन में…..

तेरी शोभा है जग से न्यारी मैं वारी जाऊं तेरे दर पे,
तेरे द्वारा ही हो मेरी भौर मां अंबे तेरे चरणन में,
मेरे जीवन की बंध गई डोर मां अंबे तेरे चरणन में……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह