हसँदा मुस्करादां जा तू नाम ध्यांदा जा,
मिल जायेगा दर उसका तू जय कारे लांदा जा,
हसँदा मुस्करादां जा तू नाम ध्यांदा जा……

पर्वत दी चोटी तेे ईक गुफा निराली ऐ,
उस गुफा दे विच बैठी माँ शेरावाली ऐ,
ओ चरणीं लगायेगी तू आप बुलान्दा जा,
हसँदा मुस्करादां जा तू नाम ध्यांदा जा…..

दरबार दे विच जा के तू दुखङे सुना देंवी,
अपना सिर दाती दे चरणां विच झुका देंवी,
ओ पार लगायेगी तू भेंटा गांदा जा,
हसँदा मुस्करादां जा तू नाम ध्यांदा जा……

वरदायनी कल्याणी माँ तेनु तारेगी,
बिगड़ी तकदीर तेरी माँ आप सवांरेगी,
चंचल जय माता दी हर ईक नु बुलांदा जा,
हसँदा मुस्करादां जा तू नाम ध्यांदा जा……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह