मुसीबतों में जो आहे कभी निकलती है,
गिला नही के मुखालिफ हवाए चलती है,
माँ के कदमो में जब भी सर को रक्खा है,
दुआओं से माँ की हजारो बलाए टलती है……

प्यार वफ़ा की सूरत है तू ममता की माँ मूरत है,
जिसने जो माँगा वो दिया है दामन तूने सबका भरा है,
मेरा भी भर जाना माँ दिवाना दिवाना दिवाना दिवाना,
दिवाना जग है तेरा दिवाना माँ जग है तेरा……

सब के दुखो को हरने वाली शेरावाली है महाकाली,
हे माँ तुम्हारी दुनिया दिवानी तुमसा नही कोई जग में सानी,
सब ने तुझको माना माँ दिवाना दिवाना दिवाना दिवाना,
दिवाना जग है तेरा दिवाना माँ जग है तेरा……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह