( लाल गुलाबी फूलो से, किसने आज सजाया है,
महक उठा दरबार तुम्हारा, कितना इत्र लगाया है,
हे माँ, तुम कितनी प्यारी लगती हो,
किसी की नज़र ना लगे,
सिंह सवारी करके मेरी मईया
इन भक्तो का मन लुभाया है। )

तेरा किसने सजाया श्रृंगार,
आज बड़ा प्यारा लगे,
प्यारा लगे, बड़ा प्यारा लगे,
तेरा किसने सजाया श्रृंगार…….

लाल पीले फूलों से किसने सजाया,
लाल चुनर किसने ओढ़ाया,
इन फूलों से जागे तेरा प्यार,
आज बड़ा प्यारा लगे,
तेरा किसने सजाया श्रृंगार,
आज बड़ा प्यारा लगे…..

भक्तो ने मईया तेरे दर को सजाया,
सूरज चंदन तारा भी देखन को आया,
सारी दुनिया आयी है तेरे द्वार,
आज बड़ा प्यारा लगे,
तेरा किसने सजाया श्रृंगार,
आज बड़ा प्यारा लगे…..

मैं भी हूँ मईया तेरे दर का दीवाना,
अब तक निभाई मईया, आगे भी निभाना,
‘अवतार’ की सुनो मईया पुकार, खड़े है द्वार तेरे,
आज बड़ा प्यारा लगे,
तेरा किसने सजाया श्रृंगार,
आज बड़ा प्यारा लगे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह