ढोल बजाओ नाचो गाओ ध्वज उठा लो हाथ में ।
राम बीर जाएंगे अवध में सारे चलो साथ में ॥

मन निर्मल कर पहन लो भगवां, राम राज आएगा ।
अब सारे दुखों का अंत, एक पल में हो जाएगा ॥
धरती पर स्वर्ग होगा सब देव होंगे धाम में।
राम विराजेंगे अवध में…

घर-घर दीप जलेंगे, रघुकुल के दीपक आएंगे ।
दूर होगा अंधेरा अब, बुझे दीप जगमगाएंगे॥
नाचेंगे गाएंगे, ढोल मजीरे होंगे हाथ में।
राम विराजेंगे अवध…

कितना भव्य मंदिर बना है मेरे प्रभु श्री राम का ।
द्वार पर अब तेरा होगा राम भक्त हनुमान का ॥
किंशुक और राजू सर झुकायेंगे दरबार में।

राम विराजेंगे अवध…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह