राम का नाम दवाई है मेरे सतगुरु ने बताई है…..

पी गए हनुमान बलशाली,
तागत आ गई उनमें भारी,
सीना फार दिखाई है मेरे सतगुरु ने बताई है….

पी गए नरसी भगत मुस्काके,
भात भर दिया पल भर में आके,
माया खुब लुटाई है मेरे सतगुरु ने बताई है…..

द्रोपति नारी बहुत सताई,
आ गए कृष्ण बने सहाई,
साड़ी खूब बढाई है मेरे सतगुरु ने बताई है…..

जहर के प्याले जब भिजवाई,
हंसकर पी गई मीराबाई,
प्याले में दिखे कन्हाई है मेरे सतगुरु ने बताई है……

पी गए भगत सभी मतवाले,
हरि सत्संग में कर दिए चालें,
हरि ने दरस दिखाई है मेरे सतगुरु ने बताई है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह