उमरिया बीत गई सारी ना लियो राम को नाम,
जवानी बीत गई सारी ना लियो राम को नाम….

जब बंदे तेरा जन्म हुआ था,
सारा कुनबा खुश हुआ था,
किलकारी अंगना में गूंजी देख बजन लगी ताली,
ना लिया राम का नाम, उमरिया बीत गई सारी…..

जब बंदे तोहै आई रे जवानी,
तू तो करता रे मनमानी,
धन दौलत तूने बहुत कमाई,
और दान नहीं कर जानी रे,
ना लिया राम का नाम, उमरिया बीत गई सारी…..

जब बंदे तोहै आयो रे बुढ़ापा,
नाती बेटा साथ ना देता,
खोखा खोखा करे रे डोकरा,
दे रहे हो रे गोरी रे,
ना लिया राम का नाम, उमरिया बीत गई सारी…..

कहत कबीर सुनो भाई साधु,
राम का नाम भूल नहीं जाना,
मुट्ठी बांध के आया रे जग में,
हाथ पसारे जाना रे,
ना लिया राम का नाम, उमरिया बीत गई सारी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह