जय जय शिव दी करदे जाओ,
दर ते आके शीश नवावो,
भव सागर तो पार लगाये,
शिव शंकर दा नाम,
भक्तों करलो जी करलो,
शिव दा ध्यान…….

शिव शंकर दे चरना विच,
दुख सारे ने मुकदे,
हाथ शिव जी दा सिर ते होवे,
साह आउंदे ने सुख दे,
जेहड़ा शिव दे चरनी लग,
जे जावे ओह शिव धाम,
भक्तों करलो जी करलो,
शिव दा ध्यान…….

मस्त मलंग शिव भोले नु,
दुख अपने सब दसदे,
सब दे दिल दी सुंदे ने,
जो विच कैलाश वसदे,
शम्भू तेरे नाल रहुगे,
होवे सुबहो या शाम,
भक्तों करलो जी करलो,
शिव दा ध्यान…….

नीलकंठ शिव शंकर ने,
जो कण कण दे विच वसदे,
कृपा करके भक्तां नु,
ओह राह सीधे ने दसदे,
दुख भी तनु दुख नि लगना,
हो जायेगा ध्यान,
भक्तों करलो जी करलो,
शिव दा ध्यान…….

जय जय शिव दी करदे जाओ,
दर ते आके शीश नवावो,
भव सागर तो पार लगाये,
शिव शंकर दा नाम,
भक्तों करलो जी करलो,
शिव दा ध्यान…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह