ब्राह्मड दी ज्योति स्वर्गा दे मोती,
तो वी नुरो नूरी शेरांवाली माई,
शेरां दे रथ ते चल के निकले,
पवन सरुपा बन आई मेरी माई,
ब्राह्मड दी ज्योति स्वर्गा दे मोती….

माँ दा रथ सोहणा माँ दी शान सोहणी,
माँ दे रथ दी पहचान सोहणी,
रथ दे पहियाँ दे विच है दिल मेरा,
वेखो मैं केड़े वेले फदे मेरी बाहीं,
ब्राह्मड दी ज्योति स्वर्गा दे मोती…….

माँ दे निकलेया नूरी नूर होया,
मेरे घर आई मेरी ज्योतांवाली माई,
माँ दा लड़ फड़ कदी ना छड्डो भक्तो,
माँ ते देंदी मुक्ति दी थांही,
ब्राह्मड दी ज्योति स्वर्गा दे मोती……

ब्रह्मा ते विष्णु भोला शकंर,
माँ दी आरती करन निरंतर,
सतां शेरां दियां फड़ लगामा,
हवा च उड़दी आई मेरी माई,
ब्राह्मड दी ज्योति स्वर्गा दे मोती……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह