कैसे बनी कैसे बनी दुर्गा से काली कैसे बनी…..

काला चोला गोटा किनारी,
हाथों में तलवार निकाली,
रण में जाए मैया चीखन लगी, दुर्गा से काली ऐसी बनी….

मार-मार असुरों के मुंड ले आई,
उन मुंडो की माला बनाई,
माला पहन मैया नाचन लगी, दुर्गा से काली ऐसी बनी…..

मार-मार असुरों के हाथ ले आई,
उन हाथों के कंगन ले आई,
कंगना पहन मैया नाचन लगी, दुर्गा से काली ऐसेे बनी…..

मार-मार असुरों के खप्पर भर लाई,
उन खप्पर में मद्रा बनाई,
मदिरा पीकेे मैया झुमन लगी, दुर्गा से काली ऐसी बनी…..

तेरा यश वेदों ने गाया,
भक्तों ने कीर्तन में सुनाया,
जयकारों से गूंज उठी, दुर्गा से काली ऐसे बनी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह