माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )
मैं ता फुल्लां नाल सजा दूँ ओहना राहवां नू,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
( माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )
तेल चो के मैं ख़ुशी च गुड़ वंडना,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
( माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )

होके अज्ज शेर ते सवार दाती आउगी,
चरण कमल साडे घर दाती पाउगी,
मन दाती दे रंगा दे विच रंगना,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
मैं ता फुल्लां नाल सजा दूँ ओहना राहवां नू,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
( माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )
तेल चो के मैं ख़ुशी च…..

गालियां च ला दूंगी मैं झंडिया पतंगिया,
अतर फुलेला दिया आऊंनगिया सुंघदिया,
बुल्ला ठंडिया हवावा वाला वगना,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
मैं ता फुल्लां नाल सजा दूँ ओहना राहवां नू,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
( माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )
तेल चो के मैं ख़ुशी च…..

पिंड च जगाउंगी मैं दीवे देसी घेयो दे,
चरण मईया दे असी पीने धो धो के,
” सैने वालेया ” दीदार माँ दा मंगना,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
मैं ता फुल्लां नाल सजा दूँ ओहना राहवां नू,
जिथो मेरी माँ ने लंगना।
( माँ ने लंगना जी, अम्बे माँ ने लंगना,
माँ ने लंगना जी, मेरी माँ ने लंगना )
तेल चो के मैं ख़ुशी च…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह