अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता,
ओ जरा दर के ठिकाने मन माँ का नाम लिया होता,
अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता……

सांसो के ये मोती व्यर्था ना लुटे होते,
माँ का नाम अगर अम्रत जी भर के पिया होता,
अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता……

सो साल का जीना भी माँ के नाम बिना व्यर्था,
जो भी किया होता माँ का नाम लिया होता,
अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता……

इस जोश जवानी में हम संभल संभल चलते,
हीरा ये जन्म जो था यू ना बर्बाद किया होता,
अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता…….

विरान सी बस्ती है मैया जी मेरे मन की,
इस उजड़े हुए गुल को गुलजार किया होता,
अब याद लगाए हो कुछ काम किया होता…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह