तेरा रूप बड़ा विकराल कालका डर लागे,
डर लागे मोहे डर लागे…

शीश पे तेरे मुकुट सोहे,
तेरे मुख में जीभा लाल,
कालका डर लागे…..

कानों में तेरे कुंडल सोहे,
तेरे गले मुंडन की माल,
कालका डर लागे…..

हाथों में तेरे चूड़ियां सोहे,
तेरे मुख में जीभा लाल,
कालका डर लागे…..

माथे पे तेरे टिका सोहे,
तेरे मुख में जीभा लाल,
कालका डर लागे…..

हाथ मैया तेरे चूड़ा सोहे,
तेरी मेहँदी करे कमाल,
कालका डर लागे…..

पाँव तेरे मैया पायल सोहे,
तू चले क्रोध की चाल,
कालका डर लागे…..

बागों में मैया फिरे अकेली,
तेरे खुल गए काले काले बाल,
कालका डर लागे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह