माता रानी दया की सागर,
कहते है सब बात यही,
सब पे करुणा,,..
सब पे करुणा बरसाने वाली, शेरावाली मात यही।।

जो भी उलझन है दुनिया में, ये मिटाती सारी है,
सारी दुनिया इन्हे मनाती, ये जग की महारानी है,
भक्तो के संग में रहती है, जैसे भी हालात रहे,
सब पे करुणा बरसाने वाली, शेरावाली मात यही…..

सर माथे पर तेरी दया माँ, सबके सिर पे रहती है,
साथ कभी न छोड़े माँ तू, साया बनके रहती है,
मईया जी सब कर देती सबके बिगड़े दिन रात सही,
सब पे करुणा बरसाने वाली, शेरावाली मात यही…..

तेरे रहते फ़िक्र नहीं सब तुझ पर ही छोड़ दिया,
तुझसे मन को लगाया मोह, माया सब छोड़ दिया,
बिन कहे सब समझे है साजन के सब जजबात यही,
सब पे करुणा बरसाने वाली, शेरावाली मात यही……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह