गौरी लाल सब नूँ निहाल कर दिंदा ऐ,
हल सारे दिलां दे सवाल कर दिंदा ऐ,

सारेया तों पहला सारे पूजा ऐहदी करदे,
हत्थ जोड़ दोवें सिर चरणां च धरदे,
पा के झोली विच खैरा, मालामाल कर दिंदा ऐ…..

श्रद्धा दे नाल जेहड़ा एसनू ध्याउंदा ऐ,
लडुयाँ दा भोग गणपति नूँ लगाउँदा ऐ,
दे के खुशियां सदां लाई, खुशहाल कर दिंदा ऐ…..

मैं कमली कोजी, जिसे कम न जोगी,
आन डिग्गी दर तेरे,
सबनां गल्लां दा मालिक तुहियों, सबै ऐब छुपा लई मेरे

गौरीलाल रखे सदां लाज है देव दी,
बदल है दित्ती रेखा मंदडे नसीब दी,
तू दुखां ते मुसीबतां दी टाल कर दिंदा ऐ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह