दोहा – पहले गणपति पूज के पाछे करिये काज,
बीच सभा में बैठयां मेरी पत रखियों महाराज,

सबसे ही प्रथम में, सारे जगत में ॥
तेरी पूजा होरियाँ ,
गणपति बप्पा मोरियां.॥

पिता पुरूष तेरा, शंकर कहावे,
गौरीजा तेरी माता कहावे ॥
गोदी उठाके, लाड़ लड़ाके ॥
देवे तुझको लोरियाँ,
गणपति बप्पा मोरिया……

ब्रह्मा, विष्णु, महेश ध्यावे,
सबसे पहले नाम तेरा आवे ॥
गज मुख दाता, सबके विधाता ॥
जग पे कृपा तोरिया,
गणपति बप्पा मोरिया……

देव पुजारी पूजा, करे करे पल पल जी,
जीवन पखेरू शायद होवे न कल जी ॥
तेरे ही बच्चों की, अकलों के कच्चों की ॥
तेरे ही हथ में डोरियाँ,
गणपति बप्पा मोरिया………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह