भक्त बुलाते हैं तुझे सब भक्त बुलाते हैं।
हे गणपति गण के नाथ, तुम्हें सब प्रथम मनाते हैं।।

शीश झुकाऊं तुम्हें मनाउँ ध्यान लगाऊँ तेरी,
धूप दीप नैवेद्य चढाऊँ चरण दबाउं तेरी,
सब काम बनादो दीन जनों के नाम जो गाते हैं।।
हे गणपति गण के नाथ……

शिव शंकर कैलाश के वाशी पिता तुम्हारे हैं,
आदि अनादि जगत हितकारी सब के प्यारे हैं,
मां पार्वती के लाल तुम्हें सब भक्त बुलाते हैं।।
हे गणपति गण के नाथ……

सकल सृष्टि के बुद्धि दायक शुभ वर दायक तू,
गज मुख नर तन मूषक वाहन सिद्धि विनायक तू,
आ जाओ गण साथ तुम्हें ” रघुवीर ” बुलाते हैं।।
हे गणपति गण के नाथ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह