एक दो तीन चार गणपति तेरी जय जय कार,
पांच छे साथ आठ गणपति तेरी क्या बात,
विघ्नों का तू है हरता दुनिया का है करता धरता,
दुःख निवारण तू है बड़ा भगतो से है प्यार करता,
सुन दुनिया के राजा मेरे घर भी आजा
दिल में विराजे तू हमेशा
ओ गणेशा इ गणेशा ओ गणेशा,

देवा तू तो मन की जाने,
कष्टों को तू पहचाने मैं भी आया हु तुमको मनाने ,
इक दंत तू है दया वंत तू है
तेरी चार बुजाओ में दुनिया सारी,
सुन दुनिया के राजा मेरे घर भी आजा
दिल में विराजे तू हमेशा
ओ गणेशा इ गणेशा ओ गणेशा,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह