स्वीकार लो यह पूजा हे गौरी मां के लाला
स्वीकार लो यह वंदना हे गौरी मां के लाला

करते हैं सबसे पहले हम आवाहन तुम्हारा
आकर की लीजिए आसन दीजे हमें सहारा
पग दीजिए पखारन हे गौरी मां के लाला
स्वीकार लो पूजा हे गौरी मां के लाला

स्वीकार अर्ध कीजे सेवा में आचमन है
स्नान पात्र हाजिर हाजिर नवल वसन है
कीजे जनेऊ धारण हे गौरी मां के लाला
स्वीकार लो यह पूजा हे गौरी मां के लाला

शुभ गंध पुष्प माला चरणों में है समर्पित
और धूप दीप चंदन नैवेद्य भी है अर्पित
यह पान भी है अर्पण हे गौरी मां के लाला
स्वीकार लो यह पूजा हे गौरी मां के लाला।।

हम सारे तेरे बालक मिल आरती उतारे
करते हैं प्रदक्षिणा सब पुष्पांजलि चढ़ाते
हरिये विघ्न हमारे हे गौरी मां के लाला
स्वीकार लो यह पूजा हे गौरी मां के लाला।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह