मेरे वीर बली हनुमान,
रखते सबका ध्यान,
भक्त श्री राम के है…..

श्री राम के सेवक ये,
नहीं करते अभिमान,
भक्त श्री राम के है…..

रोम रोम राम इनके,
राम नाम ये जपते,
प्रभु की सेवा करते है,
शरण में इनकी रहते,
भक्ति है इनकी शान,
नहीं करते अभिमान,
भक्त श्री राम के है…..

सारे तन सिंदूर लगाए,
उम्र बढ़ाये प्रभु की,
एक ज़रा सी बात पर,
सीना फाड़ दिखाए,
नहीं करते घुमान,
नहीं करते अभिमान,
भक्त श्री राम के है…..

राम नाम को जपले प्यारे,
तू मुक्ति पा जायेगा,
शरण में आजा इनके,
साथ नहीं कुछ जाएगा,
पुरे होंगे अरमान,
नहीं करते अभिमान,
भक्त श्री राम के है…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह