तर्ज :- चिट्ठी ना कोई संदेश
( भरोसा कर ले जरा )

स्थाई – ये जग तो गिराएगा तुझे वो ही उठाएगा-2
भरोसा कर ले जरा -4
ये जग तो रुलाएगा , तुझे वो ही हंसाएगा ,
भरोसा कर ले जरा-2

अंतरा -1 इंसान मुखौटा है पल पल में ये बदले,
क्यों आस लगाता है सब मतलब के पगले,
तेरे सारे रिश्तों को , वो खूब निभाएगा ।
भरोसा कर ले जरा-2

    2.  तेरे लाख हो अच्छे कर्म, पर बुरा ही गाएंगे,
                      तुझे छोड़ भंवर अपने, फिर लौट ना आएंगे,
         तेरी बीच भवर नैया ,भव पार कर आएगा।
                      भरोसा कर ले जरा-2                                    

    3.  गहरे हैं जख्म तेरे भले खुद से छुपा लेना
                     बिन बोले सुनता है बस शीश झुका देना
         कहे राधिका सांवरिया कर के ना जताएगा।
                     भरोसा कर ले जरा-2
Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह