तेरा दर तो हकीकत में दुखियो का सहारा है,
दरबार तेरा कान्हा जन्नत का नजारा है……

बिगड़ी हुयी तकदीरे तुम पल में बनाते हो,
दरबार तेरा कान्हा दुखियो का सहारा है,
तेरा दर तो हकीकत में दुखियो का सहारा है,
दरबार तेरा कान्हा जन्नत का नजारा है……

तेरे दर पे जो आता है खाली नही जाता है,
एक तु ही मेरा कान्हा जन्नत का नजारा है,
तेरा दर तो हकीकत में दुखियो का सहारा है,
दरबार तेरा कान्हा जन्नत का नजारा है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह