झलक बांके बिहारी की,
मेरे इस मन में भायी है,
मधुर मुस्कान की महिमा,
मेरे होंठो ने गायी है……

तुम्हारे प्यार में बेहद यहाँ,
दुःख क्यों सहा मैने,
हमारी क्यों ज़माने में,
अजब हालत बनाई है,
मधुर मुस्कान की महिमा,
मेरे होंठो ने गायी है…..

तुम्हारे नाम की माला तो हम,
दिन रात जपते है,
अनोखी चाहते लेकर,
तुम्हारी याद आई है,
मधुर मुस्कान की महिमा,
मेरे होंठो ने गायी है……

सुना है हमने ये स्वामी,
दयानिधि तुम कहाते हो,
तभी तक़दीर भी मेरी,
मुझे इस दर पे लाई है,
मधुर मुस्कान की महिमा,
मेरे होंठो ने गायी है…….

कभी शबरी कभी तुलसी,
कभी सूरा कभी मीरा,
सुदामा भक्त जैसो से,
बहुत यारी निभाई है,
मधुर मुस्कान की महिमा,
मेरे होंठो ने गायी है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह