काली कमलिया वाले श्याम मुझे कमली में छुपा लो,
मुझे कमली में छुपा लो, मुझे चरणों में बैठा लो,
काली कमलिया वाले श्याम मुझे कमली में छुपा लो……

तेरे दर्शन की प्यासी,
डोलू मैं आस नीराशी,
पैरों में पड़ गए मोरे छाले,
कृष्ण धरनी से उठा लो,
काली कमलिया वाले श्याम मुझे कमली में छुपा लो……

मुरली तू फेर बजाइए,
बंसी तू फेर बजाइए,
पहले मोहे गाई सुनाईयॊ,
ऐसी बजैयो नंद के लाल मोहे सोती ने उठईयो,
काली कमलिया वाले श्याम मुझे कमली में छुपा लो……

मथुरा में मोहे बुलाईयो,
वृंदावन रास रचईयो,
एसो नचईयो नंद के लाल क जग से प्रीत हटाईयो,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह