कोई जाए जो वृन्दावन, मेरा पैगाम ले जाना
मैं खुद तो आ नहीं सकता, मेरा प्रणाम ले जाना

यह कहना मुरली वाले से, तुम अब कब बुलाओगे
पड़े जो जाल माया के, उन्हें तुम कब छुड़ाओगे
मेरा जो हाल पूछें तो मेरे आंसू बता देना
कोई जाए जो वृन्दावन….

जो रातें जाग कर देखे, मेरे सब ख्वाब ले जाना
मेरे आंसू तड़प मेरी, मेरे सब भाव ले जाना
ना ले जाओ अगर मुझको मेरा सामन ले जाना
कोई जाए जो वृन्दावन….

जब उनके सामने जाओ, तो उनको देखते रहना
मेरा जो हाल पूछे तो जुबां से कुछ नहीं कहना
बहा देना कुछ एक आंसू मेरी पहचान ले जाना
कोई जाए जो वृन्दावन….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह