धुन: जय जय गोवर्धन महाराज भजन पर

रंग बरसे लाल गुलाल, हो गुलाल, वृषभानलली के मन्दिर में।
सब हो गए लालों लाल, राधा रानी के मन्दिर में ॥

भीगे चुनरी चोली दामन ।
मुख हो गए लाल गुलाल, हो गुलाल – वृषभानलली…

सुन सुन कर साजों की सरगम ।
सब नाचें बजाकर ताल – हो ताल – वृषभानलली…

राधा रूप छटा मन मोहिनी ।
कर दरस हो मनवा निहाल – निहाल – वृषभानलली…

मन ‘मधुप’ डूबा रंग रस में ।
सब बोलें जय जयकार – जयकार – वृषभानलली…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह