लठ होरी – बरसाना (रसिया)
लठ बरसेगी बरसेगा रंग, रसिया होरी में।
तेरा बिगड़ जाएगा रूप रंग, रसिया होरी में ॥

आमने सामने होगी होरी, नहीं चलेगी चोरा चोरी
रंग रंगो का होगा जंग, रसिया होरी…

होरी का घमासान मचेगा, सूखा न कोई आज बचेगा
होगा होरी में हुड़दंग, रसिया होरी…

लगते लठकी चोट करारी, उतर जाएगी मस्ती सारी
तेरी उतर जायेगी भंग, रसिया होरी…

रसिया नार बनायेंगे तोहे, दे दे ताल नचायेंगे तोहे
तज लोक लाज की संग, रसिया होरी…

रंग रंगीली ‘मधुप’ यह होरी, याद रहेगी यह लठ होरी
याद रहेंगे होरी के रंग, रसिया होरी…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह