श्याम के सिवा कहीं
दिल ना लगाना,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
आंसू बहाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

जो श्याम का गुणगान किया है,
सच्चा जीवन वो ही जिया है,
सुमिरन के बल से तुझे,
सुमिरन के बल से तुझे,
मुक्ति है पाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

बालापन गया आज जवां है,
बीत गया अब समय कहाँ है,
सोच समझ के,
सोच समझ के,
वक्त गंवाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

आया जहाँ से वही फिर है जाना,
वहां साथ जाए ना पैसा खजाना,
पूछेगा तो क्या,
पूछेगा तो क्या,
करोगे बहाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह