मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो कि हम हैं तुम्हारे,
यूं तो दुनियां में भटका बहुत हूं, अब आया हूं दर पे तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

जब से देखी है सूरत तुम्हारी, नैना कजरारे लट घुंघराली,
होश खो बैठे हम खुद ही अपना, कोई भाए सिवा ना तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

जब भी तुम मीठी बंसी बजाते गोपियों के दिलो को चुराते,
कहे बंसी को सौतन ये गोपीं, हर पल रहती ये संग मे तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

आपसे एक अर्जी है प्यारे सुन लो मेरी आंखों के तारे,
जब भी जाना हो हमको जहा से साथ रहना हमेशा हमारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह