तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी,
हो बेड़ी कदे ना अड़ी भवसागर तरी….

जदो राणा ने मीरा नू नाग भेजया,
मीरा हार समझ गल पा छडेया,
हो बन गई बन गई श्यामा जी, ओ ता फुलां दी लड़ी,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

जदो राणा ने मीरा नू जहर भेजया,
मीरा अमृत समझ के पी छडेया,
हो आजो आजो श्याम जी देर हो गईं ऐ बड़ी,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

हो जदो राणा ने मीरा नू बाहर कडेया,
मीरा रखेया भरोसा दिल नईयो छडेया,
हो मिल गई मिल गई श्यामा जी वृन्दावन दी गली,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह