तर्ज – तेरे इश्क में नाचेंगे

दीवानी श्याम आई है मिलन की आस लायी है,
महफिल सजायेंगे झूमेंगे गायेंगे ना होश में आयेंगे,
दरबार में नाचेंगे तेरे द्वार पे नाचेंगे……

महफिल में तेरी है होता यही,
जो कुछ भी मांगो मिलता यही,
दिल तेरा दरिया है डूबेंगे हम,
आंसू से अपने ये भर देंगे हम,
तेरी भक्ति में झूमेंगे,
और भजन भी गायेंगे,
झूमेंगे नाचेंगे तुम्हे भजन सुनायेंगे,
दरबार में नाचेंगे तेरे द्वार पे नाचेंगे……

मिलने की तुमसे उमंग जागी है,
दिल में तेरी ही लगन लागी है,
प्रेम हमारा तू पहचान ले,
दिल भी तुझपे ये कुर्बान है,
तुझे याद करे हर पल ना भूल पाएंगे,
हम खुशियाँ मनाएंगे,
दरबार में नाचेंगे तेरे द्वार पे नाचेंगे……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह