छाप तिलक सब छिनी रे मोसे नैना मिलायी के,
नैना मिलायी के नैना मिलायी के…..

बल बल जाऊ मै तोरे रंग रजवा,
अपने ही रंग रंग लीनी रे मोसे नैना मिलायीके,
छाप तिलक सब छिनी रे मोसे नैना मिलायीके…..

प्रेम भक्ति का मधुआ पिलाई के,
मतवारी कर दीनी रे मोसे नैना मिलायीके,
छाप तिलक सब छिनी रे मोसे नैना मिलायीके…..

हरी हरी चुड़िया गोरी गोरी बैया,
कलैइया पकड़ धर लीनी रे मोसे नैना मिलायीके,
छाप तिलक सब छिनी रे मोसे नैना मिलायीके……

श्याम नाम की मेहंदी रचयिके,
मोहे सुहागन किनी रे मोसे नैना मिलायीके,
छाप तिलक सब छिनी रे मोसे नैना मिलायीके……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह