श्री सरस्वती वंदना

धुन :- तुम्हीं हो माता पिता तुम्ही हो

हंस-वाहिनी वीणा-पाणी।
जय सरस्वती ,जय शारदे माँ॥ -2

बुद्धि विद्या ज्ञान की दाता।
भक्ति शक्ति की वरदाता॥-2
तुम्ही हो दुर्गे आद भवानी।
जय सरस्वती…..

वीणा मेरी स्वर कर दीजै।
रसना में माँ रस भर दीजै॥-2
गुण तेरा गाउँ कल्याणी।
जय सरस्वती…..

माँ ‘‘मधुप’’ के न दोष विचारो।
मन मन्दिर में आन पधारो॥-2
शुद्ध करो ह्रदय और वाणी।
जय सरस्वती….. ।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह