( पाऊं दर्शन मैया आपके तो
भक्ति में मैं संलिप्त हो जाऊं
मिले दो बूंद दया अमृत की तो
कृपा से आपकी मैं तृप्त हो जाऊं। )

फिक्र क्या करनी,
जब मैया जी साथ हैं,
जगत जननी है माई,
जगत सकल की नाथ हैं,
फिक्र क्या करनी…..

मां की शरण में आ,
जिसने धुनि रमाई,
दुनिया में उसकी,
हर खुशी समाई,
दाती के चरणों में,
खुशियों की सौगात है,
फिक्र क्या करनी…..

मां मां कहे जो,
मीठे बोल बोले,
अपनी किस्मत के,
सदा द्वार वो खोले,
संग उसके सदा,
उनका आशीर्वाद है,
फिक्र क्या करनी…..

नाम मैया जी का,
है बड़ा सुखदाई,
सुख पाया उसने,
जिसने महिमा गाई,
करो धन्य मुझे भी मैया,
राजीव की यही फरियाद है,
फिक्र क्या करनी,
जब मैया जी साथ हैं,
जगत जननी है माई,
जगत सकल की नाथ हैं…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह