आए हैं दरबार

आए हैं, आए हैं दरबार, भगत मां आए हैं ll
लाए हैं, लाए हैं श्रद्धा के, हार माँ लाए हैं ll
आए हैं, आए हैं दरबार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

सच्ची तूँ, तेरा प्यार भी सच्चा ll
जग से निराला, प्यार भी सच्चा ll
*मिलकर तेरा, प्यार माँ पाने आए हैं ll
आए हैं, आए हैं दरबार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

ऊंचे पहाड़ों, में है डेरा ll
बीच गुफा में, वास माँ तेरा ll
*अपने सोए, भाग जगाने आए हैं ll
आए हैं, आए हैं दरबार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

नाम तेरा माँ, है सुखदाई ll
करना कृपा, सब पर माई ll
*मिल के जय जयकार, बुलाने आए हैं ll
आए हैं, आए हैं दरबार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

भक्तों को, वरदान तूँ देती lL
बच्चों को सब, ज्ञान तूँ देती ll
*हाथ जोड़ के, शुक्र मनाने आए हैं ll
आए हैं आए हैं दरबार,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह